Hindi language sms funny

  • पठान की बहादुरी!

    एक बार पठान अपनी बेगम के साथ मेला देखने गया। मेले में हवाई जहाज की सैर भी करवाते थे।

    पठान ने सोचा कि चलो हम भी हवाई जहाज की सैर कर लेते हैं लेकिन 200 रुपये की टिकट सुनकर पठान का मुंह लटक गया।

    यह देखकर चालक बोला, “आप हवाई जहाज में आधा घंटा सैर कर सकते हैं। इस दौरान अगर आप के मुंह से आवाज़ निकली तो मैं आप से टिकट के पैसे लूंगा, नहीं तो यह सैर आप के लिए मुफ्त।”

    पठान सुन कर खुश हो गया और मान गया।

    दोनों जहाज में बैठ गए और चालक ने अपने करतब दिखाने शुरू कर दिए। चक्कर बनाया, उल्टा घुमाया और कभी डाइव लगायी।

    आखिर में उसने जहाज नीचे उतारा।

    नीचे उतरने के बाद चालक बोला, “मान गए पठान साहब आपको, इस तरह के करतबों के साथ तो किसी की भी चीखें निकल जाती लेकिन आपने तो एक आवाज़ नहीं निकाली।”

    पठान ने अपने माथे से पसीना पोंछा और बोला, “अब आपको कैसे बताऊँ कि किस तरह मैंने अपने आप को रोका यहाँ तक कि बेगम के बाहर गिरने पर भी मैं नहीं बोला क्योंकि 200 रुपये का सवाल था।”

  • घर पर कोई है क्या?

    एक बार एक आदमी ने एक घर की घंटी बजाई तो अंदर से एक बच्चा बाहर आया।

    आदमी: बेटा पापा घर पर हैं?

    बच्चा: अंकल, पापा तो बाज़ार गए हैं।

    आदमी: चलो बड़े भाई को बुला दो।

    बच्चा: वह क्रिकेट खेलने गया है।

    आदमी: बेटा, मम्मी तो होंगी घर पर?

    बच्चा: जी वह किट्टी पार्टी में गई हैं।

    आदमी गुस्से में आकर बोला: तो बेटा तुम घर पर क्यों बैठे हुए हो? तुम भी कहीं चले जाओ।

    बच्चा: अरे अंकल मैं भी तो अपने दोस्त के घर आया हुआ हूँ।

  • संता का जवाब!

    पप्पू की शैतानियों से तंग आ कर संता और जीतो ने फैंसला लिया कि उसे हॉस्टल में भेज दिया जाये। इसलिए पप्पू का सामान बाँध कर उसे हॉस्टल छोड़ आये।

    अभी हॉस्टल में पप्पू का केवल एक हफ्ता भी नहीं गुज़रा था कि उसके हॉस्टल से उसके वार्डन का संता को फ़ोन आ गया और वार्डन बोला,”जी क्या मैं पप्पू की पिता जी से बात कर सकता हूँ?”

    संता: जी हाँ कहिये मैं बोल रहा हूँ।

    वार्डन: जी आपके बेटे पप्पू ने अपनी शैतानियों से सारे हॉस्टल की नाक में दम कर रखा है।

    वार्डन की बात सुन कर संता तुरंत बोला, “अरे जी वाह आपने तो एक हफ्ते में ही फ़ोन कर दिया, हम भी तो इतने सालों से उसे पाल रहे हैं हम ने तो कभी किसी से शिकायत नहीं की।”

  • शराब और उसके फायदे!

    1. शराब व्यक्ति की नैसर्गिक प्रतिभा को बहार निकलता है| जैसे कोई अच्छा डांसर है लेकिन अपनी शर्म की वजह से लोगो के सामने नहीं नाच पाता, दो घूंट अन्दर जाते ही अपना ऐसा नृत्य पेश करता है कि उसके सामने माइकल जेक्सन भी पानी न मांगे।

    ऐसे कई उदहारण आपने शादी-विवाह के अवसर पर शराबियों को नृत्य करते हुए देखा होगा।

    कोई नागिन बनकर जमीन में लोटता है,

    कोई घूँघट डाल कर महिला नृत्य पस्तुत करता है,

    जो शेयर – ओ – शायरी और साहित्यिक बातें सामान्य अवस्था में नहीं की जाती, शराब पीने के बाद कई लोगो को बड़ी बड़ी साहित्यिक बातें शेयर – ओ – शायरी भी करते देखा गया है।

    2. शराब व्यक्ति के आत्मविस्वास को कई गुणा बढ़ा देती है।

    दो घूंट अन्दर जाते ही चूहे की तरह डरने वाला डरपोक से डरपोक व्यक्ति भी शेर की तरह गुर्राने लगता है।

    शराब पीने के बाद कई पतियों को अपनी पत्नी के आगे गुर्रारते हुए देखा गया है।

    3. शराब व्यक्ति को प्रकृति के करीब लाता है।

    दो घूंट अन्दर जाते ही शराबियो का प्रकृति प्रेम उभर कर सामने आ जाता है कई शराबी शराब का आनंद लेने के बाद ज़मीन, कीचड़, नाली आदि प्राकृतिक जगहों पर विश्राम करते पाए जाते है।

    4. शराब व्यक्ति की भाषाई भिन्नता को कम कर देता है जो लोग अंग्रेजी बोलना तो चाहते है लेकिन नहीं बोल पाते, अंग्रेजी बोलने में हिचकिचाहट महसूस करते है दो घूंट अन्दर जाते ही ऐसी धरा प्रवाह अंग्रेजी बोलने लगते है कि बड़े से बड़ा अंग्रेज़ भी शरमा जाये ऐसे कई लोगो से आपका पाला पड़ा होगा।

    5. शराब व्यक्ति को दिलदार बनाती है।

    कंजूस से कंजूस व्यक्ति भी दो घूंट अन्दर जाते ही किसी सल्तनत के बादशाह की तरह व्यवहार करने लगता है।

    ऐसे लोगो के जेब में भले फूटी कौड़ी न हो लेकिन ये लोग ज़माने को खरीदने में पीछे नहीं हटते है।

    • सबसे बड़ा कौन!

      एक बार एक शराबी, शराब पी कर एक मंदिर के बाहर जाता है और पुजारी से बहस करने लगता है।

      शराबी: इस दुनिया में मैं सबसे बड़ा।

      पुजारी: भाई साहब आप कैसे बड़े ? आपसे बड़ा तो भगवान् है।

      शराबी: भगवान् बड़ा तो मंदिर में क्यों पड़ा?

      पुजारी: अच्छा मंदिर बड़ा।

      शराबी: मंदिर बड़ा तो धरती पे क्यों पड़ा?

      पुजारी: अच्छा धरती बड़ी।

      शराबी: धरती बड़ी तो शेषनाग क फन पर क्यों पड़ी?

      पुजारी: अच्छा शेषनाग बड़े।

      शराबी: शेषनाग बड़े तो शिवजी के गले में क्यों पड़े?

      पुजारी: अच्छा शिवजी बड़े।

      शराबी: अच्छा शिवजी बड़े तो पर्वत पर क्यों पड़े?

      पुजारी: अच्छा पर्वत बड़ा।

      शराबी: पर्वत बड़ा तो हनुमान जी के हाथ पर क्यों पड़ा?

      पुजारी: अच्छा हनुमान जी बड़े।

      शराबी: हनुमान जी बड़े तो राम जी चरणों में क्यों पड़े?

      पुजारी: अच्छा राम जी बड़े।

      शराबी: राम जी बड़े तो सीता जी के पीछे क्यों पड़े?

      पुजारी: अच्छा तो सीता जी बड़ी।

      शराबी: सीता जी बड़ी तो अशोक वाटिका में क्यों पड़ी?

      पुजारी: अरे भाई आप ही बताइए कौन बड़ा?

      शराबी: वो सबसे बड़ा जो दो बोतल पी कर भी सीधा खडा।

    • नाम में क्या रखा है!

      एक पाकिस्तानी लड़के ने अमेरिकन स्कूल में एडमिशन लिया।

      टीचर: तुम्हारा नाम क्या है?

      लड़का: अहमद।

      टीचर: अब तुम अमेरिका में हो, इसलिए आज से तुम्हारा नाम जॉन है।

      लड़का घर पहुंचा।

      मां: पहला दिन कैसा रहा अहमद?

      लड़का: मैं अब अमेरिकन हूं और आगे से मुझे जॉन कहकर पुकारना।

      मां और पापा ने यह सुनते ही उसकी जमकर धुनाई कर दी।

      शरीर पर चोट के निशान लिए अगले दिन वह स्कूल पहुंचा।

      टीचर: क्या हुआ जॉन?

      लड़का: मेरे अमेरिकन बनने के 4 घंटे बाद ही मुझ पर 2 पाकिस्तानियों ने हमला कर दिया।

    • होशियार पप्पू!

      पप्पू: टीचर, May I Go to Washroom?

      टीचर गुस्से में, “हिंदी नहीं आती? हिंदी की क्लास में जो भी बात करनी है हिंदी में किया करो।

      पप्पू: जी, पेशाब कर आएं?

      टीचर: ठीक है जाओ।

      दूसरे दिन अंग्रेजी की क्लास में।

      पप्पू: जी, पेशाब कर आएं?

      टीचर गुस्से में, “अंग्रेजी में नहीं बोल सकते, जब अंग्रेजी की क्लास हो तो हर बात अंग्रेजी में ही पूछोगे… समझे?

      पप्पू: ओके टीचर, May I Go to Washroom?

      टीचर: ओके।

      पप्पू ने सीख ले ली कि अब वो किसी टीचर को शिकायत का मौक़ा नहीं देगा और तीसरे दिन संगीत की क्लास में सुसु आने पर टीचर से बोला।
      “टीचर, याई रे, याई रे, जोर से सुसू आई रे।”

    • मोहब्बत का राज़!

      एक लड़की जब रोज़ अपने कॉलेज से वापस आती तो एक लड़के को रोज़ अपने घर के बाहर खडा हुआ देखती।

      ऐसा रोज़ होता था, और एक साल बीत गया, वह लड़का रोज़ उसे अपने घर के सामने खडा नज़र आता।

      वो कुछ नहीं कहता था और बस कभी आगे पीछे और कभी अपने मोबाइल फ़ोन को देखता रहता।

      वक्त के गुजरने की साथ लड़की को विश्वास हो चला था की लड़का उसे चाहता है।

      एक दिन लड़की ने हिम्मत कर के उसके पास जाकर पूछ लिया,”तुम रोज़ मेरे घर के बाहर क्यों खड़े रहते हो?”

      लड़का घबरा कर, “माफ़ करना बहन, वो क्या है की तुम्हारे वाई-फाई (Wi-Fi) पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ है, तो मैं तो वो इस्तेमाल करने आता हूँ।”

      • परिणाम ही मायने रखते हैं!

        एक बार एक पादरी मर गया। जब वो स्वर्ग के वेटिंग लाइन में खडा था उनके आगे एक काला चश्मा, जींस, लेदर जैकेट पहन कर एक लडका खडा था।

        धरम राज लडके से: कौन हो तुम?

        लड़का: मैं एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर हूँ।

        धरम राज: ये लो सोने की शाल और अंदर आ आकर गोल्डन रूम ले लो।

        धरम राज पादरी से: तुम कौन हो?

        पादरी: मैं पादरी हूँ और 40 सालों से लोगों को भगवान के बारे में बताया करता था।

        धरम राज: ये लो सूती वस्त्र और अंदर आ जाओ।

        पादरी: प्रभु, ये गलत है ये तेज गति से गाड़ी चलाने वाले को सोने की शाल और जिसने पूरा जीवन भगवान का ज्ञान दिया उसे सूती वस्त्र। ऐसा क्यों?

        धरम राज: परिणाम मेरे बच्चे परिणाम… जब तुम ज्ञान देते थे सभी भक्त सोते रहते थे लेकिन जब यह आटो रिक्शा तेज चलाता था तब लोग सच्चे मन से भगवान को याद करते थे।

        हमेशा परफॉरमेंस देखी जाती है पोज़िशन नहीं।

      • अजीब परेशानी!

        शराब की लत से प्रेशान एक शख्स डॉक्टर के पास गया और बोला, “डॉक्टर साहब मेरी शराब छुडाओ।”

        डॉक्टर ने पूछा: रोजाना कितनी पीते हो?

        शराबी बोला: चार पैग।

        डॉक्टर बोला: धीरे-धीरे एक पैग कम कर दो।

        शराबी एक हफ्ते बाद डॉक्टर के पास पहुंचा।

        डॉक्टर ने पूछा: अब कितनी शराब पीते हो?

        शराबी ने जवाब दिया: तीन पैग।

        डॉक्टर ने कहा: अब एक पैग और कम कर दो।

        दो हफ्ते बाद शराबी फिर डॉक्टर के पास गया।

        डॉक्टर ने पूछा: अब कितनी पीते हो मेरे भाई।

        शराबी बोला: सर दो पैग।

        डॉक्टर ने बोला: बस अब एक पैग और कम कर दो।

        शराबी ने उदास होकर जवाब दिया: सॉरी डॉक्टर साहब पूरी बोतल को एक पैग में तो नहीं खत्म कर सकता मैं।

      • हमेशा बोलना ज़रूरी नहीं!

        कार वाले को ट्रैफिक पुलिस ने रोका और पूछा: क्यों, आपने कार के सामने की बत्तियाँ क्यों नहीं जलाई हैं?

        कार वाला: बात यह है कि हवालदार साहब, अभी-अभी गाड़ी एक ट्रक से टकरा गई और दोनों ही बत्तियाँ फूट गई।

        ट्रैफिक पुलिस वाले: अच्छा तुम्हारा लाइसेंस कहाँ है?

        कार वाला: वह अभी निकालना है।

        ट्रैफिक पुलिस: ठीक है, एक साथ दो अपराध करने के कारण मुझे आपको गिरफ्तार करना पड़ेगा।

        तभी कार वाले की पत्नी बोली: रुकिए हवालदार साहब। इनकी बातों पर ध्यान मत दीजिए। जब यह अधिक पी लेते हैं तो ऐसी ही बातें करते हैं।

      • आत्महत्या के उपाय!

        अगर आप मरना चाहते हैं लेकिन आप मरने हेतु कुछ नए कारण व तरीके अपनाने के शौक़ीन हैं तो इन्हें अपनाए:

        1. अपने लैपटॉप में Win-XP ऑपरेटिंग सिस्टम डाले, BSNL का ब्रॉडबैंड लगाए और इन्टरनेट एक्स्प्लोरर ब्राउज़र पर IRCTC की वेबसाइट पर तत्काल टिकट बुक करने का प्रयास करें, यकीन मानिए आप आत्महत्या कर लेंगे।

        2. किसी म्यूजिक स्टोर से अनु मालिक व अल्ताफ राजा के गानों की CD ले आइये और उन्हें रात भर एक बंद कमरे में बैठ कर लगातार सुने, 100% गारंटी है सुबह आपकी लाश मिलेगी।

        3. रविवार के दिन आराम से घर में बैठ कर सुबह 9 बजे से शाम के 5 बजे तक सोनी टीवी पर नॉनस्टॉप दिखाया जाने वाला शो “CID” देखें, सोमवार को आपके जनाजे में हम भी शिरकत करेंगे।

        4. अगर आप तड़प-तड़प कर मरना चाहते हैं तो इन्टरनेट से दिग्विजय सिंह के सभी भाषणों को डाउनलोड कीजिये और रोज रात को कोई एक भाषण सुनिए, कसम दिग्गी राजा की आप तड़प-तड़प के मरेंगे।

        5. अगर आप हँस-हँस के मरना चाहते हैं तो आप दो दिन लगातार बैठ कर राहुल गाँधी जी का भाषण या इंटरव्यू नॉनस्टॉप सुनते जाएँ आप बस हँसते-हँसते इस दुनिया को अलविदा कहेंगे।

        6. अगर आप झल्लाहट से मरना छाते हैं तो बाज़ार जाकर दीपक तिजोरी, आदित्य पंचोली, राहुल रॉय व उदय चोपड़ा अभिनीत फिल्मो की DVD ले आइये और खुद को एक कुर्सी पर रस्सी से बांध कर फिल्मे देखे। आपकी जान निकल जायेगी।

        • अनोखा परीक्षण!

          एक बदसूरत काला सा आदमी जुकाम की शिकायत लेकर डाक्टर के पास गया। डाक्टर ने उसे सरसरी निगाह से देखकर कहा कि वो अपने कपडे उतार दे और दोनों हाथों को जमीन पर टिका दे।

          आदमी हैरान परेशान हो गया पर उसने वैसा ही किया जैसा कि डॉक्टर ने उसे करने के लिए कहा।

          डाक्टर: ठीक है, अब जानवरों की तरह चलिए, और कमरे के दायें कोने में जाएं।

          आदमी ने यही किया।

          डाक्टर: ठीक अब बाएँ कोने में जाएं।

          आदमी उधर चला गया।

          डॉक्टर: अब इस कोने में, अब उस कोने में, अब सामने, अब बीच में।

          आदमी घबरा के उठ खड़ा हुआ और बोला, “डाक्टर साहब, कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हो गयी मुझे?”

          डॉक्टर: अरे नहीं, मामूली जुकाम है, ये दो गोली लो सुबह तक ठीक हो जाओगे।

          आदमी: पर डॉक्टर साहब आपने ये मेरा एक घंटे तक इस तरह परीक्षण क्यों किया?

          डॉक्टर: कुछ नहीं यार, बात यह है कि मैंने एक काले रंग का सोफा ख़रीदा है, मैं देखना चाहता था इस कमरे में वो किस जगह ठीक दिखेगा।

        • कंजूसी की हद!

          एक कंजूस आदमी जिंदगी भर अपने पुत्रों को कम से कम खर्च करने की हिदायतें देता रहा था। जब वह मरणासन्न स्थिति में पहुंच गया तो पुत्र आपस में मशवरा करने लगे कि किस प्रकार पिता की इच्छा के अनुसार कम से कम खर्च में उनकी अंतिम यात्रा निपटाई जाए।

          एक ने कहा, “ऐम्बुलेंस में ले जाया जाए।”

          दूसरे ने कहा, “नहीं, ऐम्बुलेंस बहुत मंहगी होगी। ठेलागाड़ी में ले चलते हैं।”

          तीसरे ने कहा, “क्यों न साइकिल पर बांधकर ले चलें?”

          यह सब सुनकर कंजूस से रहा नहीं गया। उठकर बोला, “कुछ मत करो, मेरा कुर्ता और जूते ला दो। मैं पैदल ही चला जाऊंगा।”

        • मैंने आपको पहचाना नहीं!

          एक 45 साल की महिला बहुत बीमार हो गयी उसे तुरंत अस्पताल ले गए।

          अस्पताल में डॉक्टर ने कहा कि, “तुरंत ऑपरेशन करना पड़ेगा।”

          उसे ऑपरेशन थियेटर में ले गए अभी वो वहां लेटी ही थी कि उसे साक्षात् भगवान के दर्शन हो गए भगवान ने कहा अभी तुम्हें मरना नहीं है अभी तो तुमने 40 साल 2 महीने और 8 दिन का जीवन और जीना है। यह कहकर भगवान गायब हो गए और ऑपरेशन सफलतापूर्वक हो गया।

          महिला ने सोचा अब तो उसके पास काफी उम्र पड़ी है क्यों न अपने आप को थोड़ा सजाया संवारा जाये उसने वहीँ पर अपने साज सिंगार के लिए ब्यूटीशियन को बुलाया वजन कम करने के लिए डायटिंग शुरू कर दी।

          कई दिन तक अस्पताल में रहने के बाद जब उसे घर आना था तो उसने फिर से साज सिंगार किया और हेयर-ड्रेसर को बुलाकर अपने बालों के रंग को चेंज करवाया।

          अब वो बिलकुल बदली बदली थी जब वो अस्पताल से जाने लगी तो मन ही मन बहुत खुश थी कि उसके पास जीने के लिए अभी काफी लम्बा जीवन है।

          वो काफी अच्छा महसूस कर रही थी जैसे ही वो अस्पताल के बाहर गली को पार करने लगी सामने से आती एम्बुलेंस ने उसे जोर की टक्कर मारी और वो वहीँ गिर कर मर गयी।

          जैसे ही भगवान के पास पहुंची और कहने लगी, “मैं तो ये सोच कर काफी खुश थी कि मेरे पास जीने के लिए 40 साल से ज्यादा है यही कहकर आये थे न आप।”

          भगवान ने सहजता से पूछा: क्या हुआ? मैंने आपको पहचाना नहीं।

        • सेर को सवा सेर!

          एक कंजूस आदमी जब मरने लगा तो उसने अपने तीनों बेटों को बुलाया और बोला, “मैंने हमेशा लोगों को यह कहते सुना है कि मरने के बाद आदमी के साथ कुछ भी नहीं जाता। लेकिन मैं इस धारणा को गलत साबित कर दूंगा। मेरे पास कुल तीस लाख रुपये हैं। मैं तुम तीनों को एक-एक लिफाफा दूंगा जिनमें से हरेक में दस लाख रुपये होंगे। मैं चाहता हूं कि मुझे दफनाते समय तुम लोग ये रुपये मेरी कब्र में डाल दो।”

          जब वह आदमी मर गया तो वादे के मुताबिक तीनों बेटों ने उसकी कब्र में अपने अपने लिफाफे डाल दिए।

          घर लौटते समय बड़ा बेटा गमगीन स्वर में बोला, “भाई, मुझे बड़ी आत्मग्लानि हो रही है। मुझे बैंक का कर्ज लौटाना था इसलिए मैंने लिफाफे से 2 लाख निकाल लिए थे।”

          मंझला बेटा भी आंखों में आंसू भरकर बोला, “मैंने भी नया घर खरीदा है। उसके लिए कुछ पैसों की जरूरत थी सो मैंने लिफाफे में से 4 लाख निकाल लिए थे।”

          उन दोनों की बातें सुनकर छोटा बेटा तैश में आकर बोला, “शर्म आनी चाहिए! आप लोग पिताजी की अंतिम इच्छा का भी पालन नहीं कर सके। मैंने तो एक पैसे की भी बेईमानी नहीं की। पूरे दस लाख का चेक लिफाफे में डालकर आया हूं।”

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s